IGNOU MHD 01 Notes

IGNOU MHD Notes and Solved Assignments

MHD – 01 (हिंदी काव्य)

कबीर की भाषा :

कबीर अद्वैतवाद के समर्थक तथा निर्गुण भक्ति के प्रवर्तक माने जाते हैं । कभी धर्म गुरु थे ।इसीलिए उनकी वाणियों का आध्यात्मिक रस ही आस्वाद्द होना चाहिए । कबीर का भाषा पर जबरदस्त अधिकार था । वे वाणी के डिक्टेटर थे । जिस बात को उन्होंने जिस रूप में कहलवाना चाहा उसे उसी रूप में भाषा से कहलवा लिया — बन गया तो सीधे – सीधे , नहीं तो दरेरा देकर ।

भाषा कुछ कबीर के सामने लाचार सी नजर आती है । असीम अनंत ब्रह्मानंद में आत्मा का साक्षीभूत होकर मिलना कुछ वाणी के अगोचर पकड़ में ना आ सकने वाली ही बात है । ” पर बेहदी मैदान मे रहा कबीरा ” में ना केवल उस गंभीर निगूढ़ तत्व को मूर्तिमान कर दिया गया है । और फिर व्यंग करने तथा चुटकी लेने में भी कबीर अपना प्रतिद्वंदी नहीं जानते ।

कबीर की भाषा से पंडित और काजी , अवधू और जोगिया , मुल्ला और मौलवी सभी उनके व्यंग्य से तिलमिला जाते हैं । अत्यंत सीधी भाषा में वे ऐसी चोट करते हैं कि चोट खानेवाला केवल धूल – झाड़ के चल देने के सिवा और कोई रास्ता ही नहीं पाता ।

इससे स्पष्ट है कि कबीर की वाणियों में सिर्फ शब्द भंडार की दृष्टि से ही नहीं उच्चारण भेद , वाक्यगठन , सर्वनाम तथा क्रिया पदों के प्रयोगों के लिहाज से भी कहीं पंजाबी भाषा के लक्षण प्रकट होते हैं तो कहीं राजस्थानी भाषा के , कहीं अवधी – भोजपुरी के तो कहीं खड़ी बोली के ।

कबीर की भाषा के संबंध में निर्णय की जटिलता से बचने के लिए सुगम उपाय कि कबीर की भाषा को “सधु्क्कड़ी भाषा” कहा जाए । कबीर की भाषा सधुक्कड़ी अर्थात राजस्थानी पंजाबी मिली खड़ी बोली है , पर ‘रमैनी’ और ‘सबद’ में गाने के पद है , जिनमें काव्य की ब्रजभाषा और कहीं – कहीं पूर्वी बोली का भी व्यवहार है ।

और पढ़े:

1. IGNOU MHD Notes – MHD – 01 (हिंदी काव्य)

2. IGNOU MHD Notes – MHD – 01 (हिंदी काव्य)

3. IGNOU MHD Notes – MHD – 01 (हिंदी काव्य)

कबीर की कविता के तीन रूप है — साखी , संबंध और रमैनी ।  इन तीनों प्रकार की बानियों  में मध्यकालीन धर्म साधना , भारतीय दर्शन , इस्लाम तथा सूफीमत के पारिभाषिक शब्दों की भरमार है। कबीर की उलटबासियों ,रूपको , अन्योंक्तयों  में इन पारिभाषिक शब्दों का तात्विक अभिप्राय नयी अर्थ- भंगिमा ग्रहण कर लेता है ।

इसके अतिरिक्त प्रेम और भक्ति का संदर्भ देकर कबीर ने पारिभाषिक शब्दों के अभिप्रायों को मध्ययुग की सामाजिक आवश्यकताओं के संदर्भ में नयी प्राणवक्ता दे दी है । धर्मसाधना , दर्शन , काव्यपरंपरा , कृषि , व्यापार आदि शब्दों के बाहुल्य ने कबीर की बानियों में ताजगी , सादगी , जिंदादिली और सजीव व्यंजकता का संचार कर दिया है ।

सामाजिक तथा धार्मिक विवाद से जुड़े प्रश्नों पर कबीर की भाषा सीधी चोट करने , विरोधियों को  ममहित करने और भेद की बात को धारदार  ढंग से खोलकर रखने की अद्भुत सामर्थ्य का परिचय देती है।

कबीर की काव्यभाषा में विविधता आई है ।बातचीत – बहस , समझाने – बुझाने और तर्क – वितर्क करने वाली सीधी – सादी भाषा भी चोट और व्यंग के कारण धारदार हो गई है । पर भक्ति और प्रेम की बनियों में अजीब सी मिठास , निजी एकांत साधना की तल्लीनता और धनीभूत रसमयता है ।

*कबीर की उलटबासियों में उल्टी – पुल्टी कथन भंगिमा और अनेकार्थी प्रतीक योजना कहीं – कहीं धक्कामार चमत्कार  प्रियता का आस्वाद प्रदान करती है । कबीर का कहना है कि जो उनके पद के अर्थ को समझ कर बता देगा , उसे  मैं अपने गुरु के रूप में स्वीकार कर लूंगा ।

**कबीर को संघा भाषा में रचित उलटबासियों की यह परंपरा सिद्धो और नाथों से मिली थी । सिद्धि डिंडिपा कहते हैं बैल ब्याता है , गाय बांझ रहती है ।और बछड़ा तीनों समय दुहा जाता है । इस तरह गोरखनाथ एक पद में कहते हैं कि – जल में आग लगी , मछली पर्वत पर चढ़ गई , खरगोश जल में रहता है ।

संघा भाषा मूलत: संस्कृत ‘संघाय’ शब्द का अपभ्रष्ट रूप है , जिसका अर्थ होता है अभिप्राय युक्त भाषा । कबीर ने अपने जमाने की जीती जागती रोजमर्रा की भाषा में अपनी बनियों की रचना की है ।कबीर अपने समय की जिस दलित – पीड़ित जनता को संबोधित कर रहे थे , उसमें संतों की वाग्धारा की टकसाल से निकलने वाली बानियों पर जनसाधारण के संघर्ष और कष्ट से परिपूर्ण जीवनानुभव की गहरी छाप है ।

सत्य की आंच में तपी और ढली कबीर की काव्यभाषा में एक ओर यदि दो टूक खरापन है तो , दूसरी ओर उस जमाने में पीड़ित मानवता के लिए करुणा और गहरी आत्मीयता भी है । कबीर की काव्यभाषा में मध्यकालीन भारतीय दर्शन की भरमार है । कबीर की भाषा में ताजगी , सादगी , जिंदादिली है ।

उन्होंने अपने युग की जीती – जागती रोजमर्रा की भाषा में बनियों की रचना की है ।उनकी भाषा सत्य की आंच में तपी और ढली है ।उनकी भाषा संगीत के नाद तत्व से परिपूर्ण है ।।

और पढ़े:

4. IGNOU MHD Notes – MHD – 01 (हिंदी काव्य)

5. IGNOU MHD Notes – MHD – 01 (हिंदी काव्य)

6. IGNOU MHD Notes – MHD – 01 (हिंदी काव्य)

Visit IGNOU Official Website for MHD Details