Hindi Question Paper’ 2015 | हिंदी क्वेश्चन पेपर २०१५ |AHSEC |Class 12

AHSEC HINDI QUESTION PAPERS’ 2015

ASSAM BOARD – AHSEC

( Modern Indian Language )

Full Marks : 100

Time : 3 hours

The figures in the margin indicate full marks for the questions

1.  निम्नलिखित काव्यांष को पढ़कर उसके नीचे दिए गए प्रष्नों के उत्तर दीजिए:

रोटी उसकी, जिसका अनाज, जिसकी जमीन, सिका श्रम है;

अब कौन उलट सकता स्वतंत्रता का सुसिद्व, सीधा क्रम है।

आजादी है अधिकार परिश्रम का पुनीत फल पाने का,

आजादी है अधिकार शोषणों की धज्जियाँ उड़ाने का।

गौरव की भाषा नई सीख, भिखमंगों की आवाज बदल,

सिमटी बाँहों को खोल गरूड़, उड़ने का अब अंदाज बदल।

स्वाधीन मनुज की इच्छा के आगे पहाड़ हिल सकते हैं;

रोटी क्या? ये अंबरवाले सारे सिंगार मिल सकते है।

प्रश्न:

(क) सच्चे अर्थ में रोटी पर किसका अधिकार है ?

(ख) आजादी क्यों आवष्यक है?

(ग) गिड़गिड़ाना छोड़कर किन पंक्तियों में कवि ने स्वाभिमानी बनने को कहा है?

(घ) कवि ने व्यक्ति को क्या उपदेष दिया है?

(ङ) प्रस्तुत काव्यांष का एक शीर्षक दीजिए।

2. निम्नलिखित गद्यांष को पढ़कर उसके नीचे दिए गए प्रष्नों के उत्तर दीजिए:

कुल लोग विद्यार्थियों की अनुषासनहीनता का मुख्य कारण माता-पिता की ढिलाई मानते हैं। माता-पिता के संस्कार ही बच्चे पर पड़ते हैं। बच्चे की प्राथमिक पाठषाला घर होती है। यदि घर का वातावरण ही दोषपूर्ण है तो उसके संस्कार उन्नत कैसे हो सकते हैं। पहले तो प्यार के कारण माता-पिता बच्चे के खराब व्यवहार, अषिष्टता और खराब भाषा की ओर ध्यान नहीं देते, किंतु जब हाथी के दाँत बाहर निकल आते हैं तो उन्हें चिंता होती है और वे विद्यालय और शिक्षकों की आलोचना करना आरंभ कर देते हैं।

बच्चों के दोषपूर्ण व्यवहार और संस्कारों का एक कारण हमारी दोषपूर्ण षिक्षा-प्रणाली भी है, जिसमें नैतिक या चारित्रिक शिक्षा को कोई स्थान नहीं दिया जाता । पहले विद्यार्थियों को दंड का भय बना रहता था, किंतु अब शारीरिक दंड अपराध माना जाता है। शिक्षक केवल जबानी जमा-खर्च ही कर सकते हैं। पश्चिमी संगीत, नृत्यच तथा चलचित्रों ने भी विद्यार्थियों को बहुत हानि पहुँचाई है।

और पढ़े: AHSEC HINDI QUESTION PAPERS

  1. AHSEC HINDI QUESTION PAPERS’ 2014
  2. AHSEC HINDI QUESTION PAPERS’ 2015
  3. AHSEC HINDI QUESTION PAPERS’ 2016
  4. AHSEC HINDI QUESTION PAPERS’ 2017
  5. AHSEC HINDI QUESTION PAPERS’ 2018
  6. AHSEC HINDI QUESTION PAPERS’ 2019

प्रश्न:

(क) विद्यार्थियों की अनुषासनहीनता का मुख्य कारण क्या है?

(ख) माता-पिता विद्यालय और शिक्षकों की आलोचना कब और क्यों करते है?

(ग) गद्यांष का एक उपयुक्त शीर्षक दीजिए।

(घ) ’जब हाथी के दाँत बाहर निकल आते हैं तो उन्हें चिंता होती है।’ – आषय स्पष्ट कीजिए।

(ङ) हमारी षिक्षा-प्रणाली को दोषपूर्ण क्यों कहा गया है?

(च) शारीरिक दंड दिये जाने के पक्ष और विपक्ष में एक-एक तर्क दीजिए।

(छ) पश्चिमी संस्कृति ने विद्यार्थियों को हानि कैसे पहुँचाई है?

(ज) संधि विच्छेद कीजिए – संस्कार, नैतिक

3. निम्नलिखित में से किसी एक पर निबन्ध लिखिए:

(क) समय का सदुपयोग (भूमिका, समय का महत्व, समय का सदुपयोग, समय के सदुपयोग से लाभ, उपसंहार)

(ख) परोपकार (भूमिका, सामाजिक प्राणी और परहित, भारतीय संस्कृति और परहित, परहित के उदाहरण, उपसंहार)

(ग) प्रदूषण की समस्या (प्रस्तावना, प्रदूषण के प्रकार, प्रदूषण से हानि, नियंत्रण के उपाय, उपसंहार)

(घ) कम्प्यूटर की उपयोगिता (भूमिका, संचार माध्यम और कंप्यूटर, प्रिंट मीडिया में कंप्यूटर, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में कंप्यूटर की अनिवार्यता, उपसंहार)

4. नगर निगम के अध्यक्ष को एक पत्र लिखकर अपने इलाके की दयनीय यात्रायत व्यवस्था को दूर करने के लिए अनुरोध कीजिए।

अथवा

डाकिए की अनियमितता और लापरवाही की शिकायत करते हुए अपने क्षेत्र के डाकपाल को पत्र लिखिए।

5.  निम्नलिखित प्रष्नों के उत्तर दीजिए:

(क) संचार किसे कहते है?

(ख) हिन्दी का पहला अखबार क्या है और कब निकला है?

(ग) संचार माध्यम कितने प्रकार के होते है?

(घ) आलेख किसे कहते है?

(ङ) संपादकीय कौन लिखता है?

6.’बिजली की कटौती’ पर एक फीचर लिखिए।

अथवा

हिन्दी सिनेमाघरों की लोकप्रियता पर एक आलेख प्रस्तुत कीजिए।

7. निम्नलिखित काव्यांष को पढ़कर उसके नीचे दिए गए प्रष्नों के उत्तर दीजिए:

कविता एक उड़ान है चिड़िया के बहाने

कविता की उड़ान भला चिड़िया क्या जाने

   बाहर भी इस घर, उस घर

कविता के पंख लगा उड़ने के माने, चिड़िया क्या जाने?

प्रश्न:

(क) कविता की उड़ान का अर्थ क्या है?

(ख) चिड़िया की उड़ान सीमाबद्व क्यों है

(ग) चिड़िया क्या नही जानती है ?

(घ) काव्यांष में प्रयुक्त भाषा की विशेषताएँ लिखिए।

अथवा

आँगन में लिए चाँद के टुकड़े को खड़ी

हाथों पे झुलाती है उसे गोद-भरी

रह-रह के हवा में जो लोका देती है

गूँज उठती है खिलखिलाते बच्चे की हँसी

प्रश्न:

(क) कवि ने चाँद का टुकड़ा किसे और क्यों कहा है?

(ख) माता बच्चे को कैसे खिला रही है?

(ग) ’लोका देना’ का अर्थ स्पष्ट करते हुए बताइए कि लोका देने का बच्चे पर क्या प्रभाव पड़ता है?

(घ) इस रूबाई में किस भाव का वर्णन किया गया है?

8. निम्नलिखित में से किसी एक काव्यांष को पढ़कर उसके नीचे दिए गए प्रष्नों के उत्तर दीजिए।

(क) जाने क्या रिश्ता है, जाने क्या नाता है?

   जितना भी उँड़ेलता हूँ, भर-भर फिर आता है।

   दिल में क्या झरना है?

   मीठे पानी का सोता है

   भीतर वह, उपर तुम

   मुसकाता चाँद ज्यों धरती पर रात-भर

   मुझ पर त्यो तुम्हारा ही खिलता वह चेहरा है!

प्रश्न:

(क)’जितना भी उँड़ेलता हूँ, भर-भर फिर आता है’। – आषय स्पष्ट कीजिए।

(ख)’जाने क्या रिश्ता है’ – कवि किस रिश्ते की बात कर रहे हैं?

(ग)’भीतर वह, ऊपर तुम’ – आषय स्पष्ट कीजिए।

(ख) खेती न किसान को, भिखारी को न भीख, बलि,

बनिक को बनिज, न चाकर को चाकरी।

जीविका बिहीन लोग सीद्यमान सोच बस,

कहँ एक एकन सों ’कहाँ जाई, का करी?’

प्रश्न:

(क) यह विकट परिस्थिति किस सम्राट के समय की है तथा इतिहासकारों ने उनको किस रूप में प्रस्तुत किया है?

(ख) विकट परिस्थितियों के शिकार लोग कौन है?

(ग) प्रस्तुत पंक्तियों के भाषा – रूप क्या है?

9. निम्नलिखित काव्यांषों में किन्हीं दो को पढ़कर उनके नीचे दिए गए प्रष्नों के उत्तर दीजिए:

(क)  जन्म से ही वे अपने साथ लाते है कपास

पृथ्वी घूमती हुई आती है उनके बेचैन पैरों के पास – प्रस्तुत काव्यांष के अर्थ का स्पष्ट कीजिए।

(ख) ’जो कुछ भी जाग्रत है अपलक है – स्ंवेदन तुम्हारा है! – भाव स्पष्ट कीजिए ।

(ग) नील जल में या किसी की

गौर झिलमिल देह

जैसे हिल रही हो। – कवि ने यहाँ उषा का वर्णन किस रूप में किया है ?

(घ) तिरती है समीर सागर पर

अस्थिर सुख पर दुख की छाया –

जग के दग्ध हृदय पर

निर्दय विप्लव की प्लावित माया –

– यहाँ ’अस्थिर सुख’ और ’निर्दय विप्लप’ का आषय स्पष्ट कीजिए।

10. निम्नलिखित में से किसी एक गद्यांष को पढ़कर उसके नीचे दिए गए प्रष्नों के उत्तर दीजिए:

(क) शास्त्र का प्रश्न भी भक्तिन अपनी सुविधा के अनुसार सुलझा लेती है। मुझे स्त्रियों का सिर घुटाना अच्छा नहीं लगता, अतः मैंने भक्तिन को रोका। उसने अकुंठित भाव से उत्तर दिया कि शास्त्र में लिखा है। कौतूहलवश मैं पूछ ही बैठी – ’क्या लिखा है ?’ तुरंत उत्तर मिला – ’तीरथ गए मुँडाए सिद्ध’।

कौन से शास्त्र का यह रसहस्यमय सूत्र है, यह जान लेना मेरे लिए संभव ही नहीं था। अतः मैं हारकर मौन हो रही और भक्तिन का चूड़ाकर्म हर बृहस्पतिवार को, एक दरिद्र नापित के गंगाजल से धुले उस्तरे द्वारा यथाविधि निष्पन्न होता रहा।

प्रश्न:

(क) लेखिका ने भक्तिन को किस बात से रोकने का प्रयास किया ?

(ख) शास्त्र के किस प्रष्न पर यहाँ विचार किया गया है?

(ग) हर बृहस्पतिवार को भक्तिन क्या करवाती थी और क्यों?

(घ) इस गद्यांष के आधार पर भक्तिन के चरित्र की किन्हीं दो विशेषताएँ लिखिए।

(ख) एक-एक बार मुझे मालूम होता है कि यह षिरीष एक अद्भुत अवधूत है। दुःख हो या सुख वह हार नहीं मानता। न ऊधो का लेना, न माधो का देना। जब धरती और आसमान जलते रहते हैं, जब भी यह हजरत न जाने कहाँ से अपना रस खींचते रहते हैं।

मौज में आठों याम मस्त रहते हैं। एक वनष्पति शास्त्री ने मुझे बताया है कि यह उस श्रेणी का पेड़ है जो वायुमंडल से अपना रस खींचता है। जरूर खींचता होग। नहीं तो भयंकर लू के समय इतने कोमल तंतुजाल और ऐसे सुकुमार केसर को कैसे उगा सकता था?

प्रश्न:

(क) लेखक ने षिरीष की तुलना अवधूत से क्यों की है?

(ख) लेखक को षिरीष किस श्रेणी का पेड़ बताया गया है?

(ग) शिरीष का पेड़ अन्य पेड़ से अलग कैसे है?

(घ) निम्नलिखित शब्दों के अर्थ लिखिए – हजरत, याम, सुकुमार, वनष्पति।

11. निम्नलिखित में से किन्ही चार प्रष्नों के उत्तर दीजिए:

(क) ’पर्चेजिंग पावर’ का क्या अर्थ है? उस पर गर्व का क्या परिणाम होता है।

(ख) लोग चार्ली को किस रूप में देखते हैं और क्यों?

(ग) सफिया के भाई ने नमक की पुड़िया ले जाने से क्यों मना कर दिया था?

(घ) लेखक ने षिरीष की डाल पर झूला डालने के लिए क्या तर्क दिया है ?

(ङ) ’त्याग के बिना दान नहीं होता’ – पठित पाठ के आधार पर स्पष्ट कीजिए।

पूरक पुस्तक (वितान: भाग – 2)

12. निम्नलिखित में से किन्हीं दो प्रश्नो के उत्तर दीजिए:

(क) यषोधर बाबू की कौन सी बात उनकी पत्नी और बच्चों को अखरती थी?

(ख) यषोधर बाबू किससे प्रभावित थे?

(ग) सिंधु घाटी सभ्यता की विशिष्ट पहचान क्या है?

13. निम्नलिखित में से किन्हीं दो प्रश्नो के उत्तर दीजिए:

(क) मुअनजो-दड़ो में बड़े घरों में छोटे कमरे होने का क्या कारण हो सकता है?

(ख) मुअनजो-दड़ो की घर-निर्माण कला का वर्णन कीजिए।

(ग) यषोधर बाबू ने अपना मकान बनाने का प्रयास क्यों नहीं किया?

14. यषोधर बाबू से उसके अधीनस्थ कर्मचारी क्यों परेशान थे?

अथवा

’सिंधु-घाटी के लोगों में कला या सुरूचि का महत्व अधिक था’ – विचार कीजिए।

और पढ़े:

1. HINDI QUESTION PAPERS (AHSEC CLASS 12)’ – 2014 TO 2020

2. HINDI QUESTION PAPERS – IGNOU MHD

3. HINDI QUESTION PAPERS – DIBRUGARH UNIVERSITY

4. Advance Hindi Question Papers – Class 11

Leave a Comment

error: Content is protected !!